congress election president
लेटेस्ट न्यूज

कांग्रेस अध्यक्ष की वोटिंग शुरू, जाने कौन कौन दे सकता है वोट और कैसे होता है चुनाव

कांग्रेस में पिछले दो दशक में यह पहली बार है कि कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष के लिए चुनाव हो रहा है। कांग्रेस के इस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव में मल्लिकार्जुन खड़गे और सांसद शशि थरूर के बीच मुकाबला है।

आइए हम इस चुनाव के बारे में पूरा विस्तार से समझते हैं की कांग्रेस पार्टी में अध्यक्ष पद के लिए चुनाव की प्रक्रिया क्या है।

किस-किस जगह और किस प्रकार होगी वोटिंग

कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव के लिए पूरे देश में कांग्रेस के कार्यालय पर 39 वोटिंग स्टेशन और 67 बूथ बनाए गए हैं।

वोटिंग गुप्त तरीके से होगी और मतदान करता अपनी इच्छा अनुसार अपने पसंद के प्रत्याशी का नाम वोटिंग पर्चे में नाम के आगे टिक लगाकर उसे बैलट बॉक्स में डाल देंगे।

कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधि को एक क्यूआर कोड वाला एक पहचान पत्र दिए जाते हैं जिस भी प्रतिनिधि के पास यह qr-code होंगे सिर्फ वही प्रतिनिधि इस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए वोट डाल सकते हैं।

कौन कौन डाल सकता है वोट

अध्यक्ष पद के लिए इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी के 9000 से अधिक प्रतिनिधि वोट डालेंगे। क्या हुआ प्रतिनिधि होते हैं जो हर एक 5 साल में संगठन के अंदर होने वाले चुनाव के द्वारा चुने जाते हैं। सिर्फ वही चुने गए प्रतिनिधि ही कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए वोट डाल सकते हैं।

प्रत्येक बूथ पर लगभग 200 प्रतिनिधि वोट डालेंगे। और उन सारे लोग जो भारत जोड़ो यात्रा में हिस्सा लिए हैं उनके लिए कर्नाटक के बल्लारी में विशेष इंतजाम कराए गए हैं।

कब और किसने मारी कांग्रेस की अध्यक्ष पद की बाजी

सबसे पहले कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए 1939 ईस्वी में महात्मा गांधी समर्पित सीतारमैय्या और सुभाष चंद्र बोस के बीच अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुआ था जिसमें नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने बाजी मारी थी।

1950 ईस्वी में पुरुषोत्तम दास टंडन और आचार्य कृपलानी के बीच अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ा गया था जिसमें पुरुषोत्तम दास टंडन ने जीत दर्ज की थी।

1977 में पुरुषोत्तम दास टंडन, सिद्धार्थ शंकर रे एवं केसु ब्रह्मानंदा रेडी के बीच अध्यक्ष पद के लिए मुकाबला हुआ था जिसमें केशु ब्रह्मानंदा रेडी ने बाजी मार ली थी।

कांग्रेस के सबसे लंबा तक के लिए अध्यक्ष

कांग्रेस के सबसे लंबे तक के लिए 1988 मैं हुए कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव के बाद से सोनिया गांधी सबसे लंबे समय तक के लिए अध्यक्ष पद पर रह चुकी हैं।

उसके बाद आज तक सिर्फ गांधी परिवार के पास ही अध्यक्ष का कमान रहा है। 25 साल बाद यह होगा जब कोई गांधी परिवार के अलावा कोई कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *