lemon tea benefits
Fashion & Beauty

अधिक मात्रा में लेमन टी का सेवन पहुंचती है हमारे इन-इन अंगों को नुकसान

लेमन टी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है। साथ ही यह विटामिन सी के सेवन में काफी लाभदायक होता है।

परंतु लेमन टी की फायदा उठाना है तो इसे सीमित मात्रा में सेवन करें अधिक मात्रा में सेवन शरीर के अंगों के लिए काफी नुकसान माना जाता है।

तो आइए यह जानते हैं कि ज्यादा मात्रा में लेमन टि हमारे शरीर पर क्या प्रभाव डालती हैं।

पाचन शक्ति हो सकती है खराब

अगर आप ज्यादा मात्रा में लेमन टी पीते हैं तो यह आपका पाचन शक्ति को खराब कर सकती है।

अधिक मात्रा में लेमन टी पीने से पेट एवं आठ के पीएच स्तर में बदलाव होने लगता है जिसके कारण एसिडिक रिफ्लक्स हो सकता है।

जिसके कारण सीने में जलन एवं कभी-कभी उल्टी होने लगती है। साथ ही यह पेट दर्द का कारण बन सकती हैं।

दांतों पर पड़ता है प्रभाव

जो लोग लेमन टी को नियमित तौर पर पीते हैं तो बता दे यह आपके दातों पर भी असर डालती हैं।

दरअसल नींबू दातों में मौजूद इनेमल को की करता है। नींबू इनेमल का साइलेंट किलर माना जाता है।

जिसके कारण आपके दातों में तेज दर्द होने लग सकती है एवं संवेदनशीलता भी बढ़ जाती हैं।

किडनी को करती है प्रभावित

किडनी शरीर के खून को साफ करती है एवं हमारे शरीर में उपस्थित बेकार एवं जहरीले तत्वों को बाहर निकाल फेंकने में मदद करती हैं।

लेकिन आप लेमन टी का अधिक मात्रा में सेवन आपके किडनी को काफी नुकसान पहुंचाता है।

अधिक मात्रा में लेमन टी के सेवन से हमारे शरीर में एसिडिटी का प्रभाव काफी बढ़ जाता है जिसके कारण किडनी उसे सही से फिल्टर नहीं कर पाती हैं।

एवं जिससे हमारे किडनी को काफी नुकसान पहुंचते हैं।

हो सकती है माइग्रेन की समस्या

अधिक मात्रा में नींबू का सेवन से यह आपमें माइग्रेन की समस्या उत्पन्न कर सकती है।

क्योंकि नींबू में टायरामाइन नाम का एक तत्व पाया जाता है जो हममें माइग्रेन की समस्या उत्पन्न कर सकती है।

यदि आपको पहले से माइग्रेन है तो लेमन टी का सेवन ना करें। यदि नहीं है तो इसका सेवन सीमित मात्रा में करें।

इन समस्याओं से बचाव

अगर आप लेमन टी के शौकीन है परंतु आप इन सभी समस्याओं को उत्पन्न होने से बचाना चाहते हैं तो

एक दिन में एक कप लेमन टी का सेवन करना बेहतर एवं सुरक्षित माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *